शनिवार, 12 मार्च 2011

// देश भक्ति का नारा है आर. एस. एस.हमारा है //

                              // देश भक्ति  का नारा है  आर. एस. एस.हमारा है//
         हिन्दू संस्थाओं को और rss को बदना करने का कुछ लोगों ने ठेका ले रखा है.परन्तु एस.एस.इस देश का ही नहीं, सम्पूर्ण विश्व का एक अद्भुत स्वयं सेवी  संघटन है. इस  में लाखों समर्पित कार्य कर्ता है.वे अविवाहित तपस्वी लोग सुख,सुविधा.स्वार्थ आदि का परीत्याग कर देश एवं अपनी प्राणप्यारी भारतीय संस्कृति की सुरक्षा का काम करते है.ये जाती,वर्ण,प्रांत आदि की भावना से उपर उठकर काम करनेवाले लोग है. इनके दृष्टि में इस देश में रहनेवाला हर व्यक्ति अपना एवं हिन्दू है चाहे वह किसी भी धर्म को माननेवाला क्यों न हो.इनकी एक ही शर्त है की इस देश एवं देश की संस्कृति का सम्मान हो, विरोध न ही.रही बात आतंकवाद की तो संभव ही नहीं है की यह संघटन देशद्रोही या आतंकवादी हो. हाँ संभव है की इतने बड़े संघटन के कुछ मुठ्ठीभर लोग की सिम्मी जैसे संघटन की प्रतिक्रिया में इस ओर कदम रख सकते. उन्हें अवश्य दण्ड मिलेगा. परन्तु इस का कदापि यह अर्थ नहीं समझना चाहिये की संघ ही आतंकवादी है.इसका पहला भरोसा प्रजातांत्रिक मूल्यों पर है.यह मुस्लिम विरोधी भी नहीं है.यह राष्ट्रवादी मुस्लिमों का समर्थक है एवं  देश द्रोही हिन्दुओं का भी विरोधी है.हमें इन झूठे,मक्कार,स्वार्थी राजनेताओं के बातों में नहीं आना चाहिये. वे लोग आज राम को कल्पना बता रहे है कल मुहम्मद साहब को कल्पना बताएगें.आज इने भगवा आतंकवाद दिख रहा है, कल इन्हें हरा या कोई और रंग दिखने लगेगा. ये लोग वोट बैंक के लिए कुछ भी कर सकते है.
             बाबरी ढ़ाचे को नुकसान पहुंचाना  उनकी किसी केंद्रीय योजना का अंग भी  नहीं था.वे तो इस मुद्दे के द्वारा हिन्दुओं को जागृत एवं एक करना चाहते थे.उन्होंने पहले ही दिन प्रतीकात्मक कारसेवा के लिए सफल रिहर्सल भी की थी और सभी कार  सेवकों को यह भी समझा दिया गया था की कांग्रेस सरकार कार सेवा की अनुमति नहीं दे रही है, सभी कारसेवक  क्रम से एक मुठ्ठी सरयू की पवित्र बालू राम चबुतरे के पास  निश्चित स्थान पर समर्पित कर समझले की राम मंदिर की प्रतीकात्मक कार सेवा संपन्न हो गई है.आर एस एस का अपने कार्य कर्ताओं पर भरोसा भी था परन्तु आम हिन्दू कार्य कर्ताओं एवं शिव सैनिको ने उनके इस गणित को बिगाड़ दिया.बाद में भारी मन से वे भी सम्मिलित हो गए.वे लोग मज्जिद विरोभी भी नहीं थे.ऐसा होता तो पुरे देश में सैकड़ो मज्जिदे तोड़ी गई होती. वो आम हिन्दू कार्य कर्ता बार बार की कटकट और अत्याचारी विदेशी बाबर की इस अपमानास्पद निशानी को ही ख़तम कर देना चाहते थे.आम हिन्दू सोचता है की विदेशी मुस्लिम आक्रान्ताओं ने हिन्दुओं के  ऊपर बहुत अत्याचार किये है.जदी आर एस एस देश भक्त नहीं है तो फिर देश भक्ति की अवधारणा हमें बदलनी पड़ेगी.वे लोग भूल कर रहे है और अपना नुकसान भी जो लोग सोचते है की आतंकवाद के नाम पर संघ को ख़तम कर देगें.हम जितना विरोध करेंगे संघ उतना ही अपने को मजबूत बनाता जाएगा.हमें इस विषय पर सोचना चाहिए की मुस्लिम वोट बैंक ही हिन्दू वोट बैंक की प्रेरणा बनेगा.विरोध से विरोध बढेगा.कट्टरता से कट्टरता बढ़ेगी.जदी ऐसा ही रहा तो मुस्लिम की तरह हिन्दू भी पार्टी देखकर नहीं,धर्म देखकर वोट देने लगेगा.इस से हमें है बचाने की कोशिस करनी होगी.
               अब हमें दोनों तरफ से ऐसी बातो से बचना चाहिये जो हमें अलग करती है. हमें परस्पर सम्मान देकर साथ साथ भाईचारे से जीना सिखना होगा.हिन्दुओं के ऊपर अत्याचार करनेवाले विदेशी मुसलमान थे यह बात हिन्दू मुसलमान दोनों को समझना पडेगा.एक भारतीय मुसलमान ही भारतीय पीड़ा को समझ सकता है,एक विदेशी भारतीय पीड़ा को क्या समझेगा?हम भारतीय एक भारत माँ की संतान है.इस भातृत्व के अंतर संबंध को स्वीकार करके ही हम सुखी हो सकते है.अन्यथा नहीं.
धर्म के नाम पर देश को किस ने बाटा? :-
              संघ की उन परिस्थियों को समझना जरुरी है जिसके कारण यह खड़ा हुआ है. कोई  कहते है जाती और धर्म के आधार पर संघ बाट रहा है.इस देश में धर्म और जाती के नाम पर कौन लामबंध नहीं हो रहे है? कौन नहीं बाट रहा है? यहाँ तो धर्म और जाती को लेकर ही टिकट बाटा जाता है.आदमी खड़े किये जाते है.क्या यह बाटना नहीं है? दलाली खानेवाले  किन किन को आप गिनेगें? ? १) देश को धार्मिक आधार पर बाटने का काम कब से सुरु हुआ? १) धार्मिक आधार पर पाकिस्थान की मांग किसने की? ३) वोट बैंक के फतवे  कौन जारी  करते है? ४)  कश्मीर को अलग करने की मांग का आधार क्या था ? ५)  कश्मीरी हिन्दूओं को शरणार्थी किसने बनाया? ६)  जजिया कर किस ने किस पर लगाया? ७) राजस्थान में जौहर का कारण कौन थे? ७) गरीब,दलित,मजदूरों को किसने गुलाम बनाया?८)  गरीब,दलित,आम लोंगों को लुटकर,उनके पैसों से कौन नबाब बन गए?९)  उन गरीबों के पैसों से अपने सुरक्षित किल्ले.महल,कीमती कबरे किसने बनायीं? १०)  गुरु तेगबहादुरजी.उनके शिष्यों आदि का बलिदान किन कारणों से हुआ? ११)  नालंदा एवं तक्षसिला को किस ने जलाकर नष्ट कर दिया.१२) शेकडों मंदिरों को किसने तोड़ा? १३) औरंगजेब चंगेजखा आदि शासको के अत्याचार का आज के भारतीय मुसलमान क्यों  नहीं विरोध करते? १४) मजिदों के सामने से गुजरने वाले  हिन्दू शोभा यात्राओं को कौन रोकते थे?        
             ऐसे कई प्रश्न है.जिस के कारण संघ जैसे संगटन पैदा होते है.,स्वामी असिमानन्द एवं साध्वी प्रज्ञा जैसे अहिंसा के  पुजारी भी असहिष्णु बन जाते है...धर्म को बाटने का काम संघ के पहले का है.संघ तो उसकी प्रतिक्रिया है.इस्लाम जितना कट्टर है उतना हिन्दू नहीं है.मुसलमान जब बहू संख्यक हो जाता है तब उस की कट्टरता बाहर आ जाती है.तब वह धर्म निरपेक्ष नहीं धर्म सापेक्ष हो जाता है.उस समय गैर मुस्लिमों के प्रति धार्मिक भेदभाव सुरु हो जाता है.हिन्दू या इसाई बहुसंख्यक देश में धर्म निरपेक्ष शासन व्यवस्था एवं धार्मिक आजादी होती है, उसी प्रकार मुस्लिम बहुल देश में क्या यह संभव है?यह सभी बाते सिद्ध करती है की धार्मिक भेदभाव कहा पर है.मुझे कहने में कोई संकोच नहीं है.क़यामत के बाद भी इस्लाम धर्म पारसी धर्म की तरह हिन्दोंस्थान में सुरक्षित रहेगा. अपने ही जातीय मामलों में हिन्दुओं का रिकार्ड अछा नहीं है परन्तु अन्य धर्मों के साथ यह सहिष्णु रहा है.इसका हिन्दुओं को नुकसान उठाना पडा है.मुस्लिम धर्म का भाईचारा केवल मुस्लिम लोगों के लिए है.काफिरों के लिए भेदभाव एवं खुदा का नरक रिजर्व है.हिन्दू संस्थाओं और संघ को बदनाम करने के पहले आप अपना चेहरा दर्पण में देखिये.आप हमसे भी जाद्या कुरूप दिखोगे.

4 टिप्‍पणियां:

  1. ब्‍लागजगत पर आपका स्‍वागत है ।

    नि:शुल्‍क संस्‍कृत सीखें । ब्‍लागजगत पर सरल संस्‍कृतप्रशिक्षण आयोजित किया गया है
    संस्‍कृतजगत् पर आकर हमारा मार्गदर्शन करें व अपने
    सुझाव दें, और अगर हमारा प्रयास पसंद आये तो संस्‍कृत के प्रसार में अपना योगदान दें ।

    यदि आप संस्‍कृत में लिख सकते हैं तो आपको इस ब्‍लाग पर लेखन के लिये आमन्त्रित किया जा रहा है ।

    हमें ईमेल से संपर्क करें pandey.aaanand@gmail.com पर अपना नाम व पूरा परिचय)

    धन्‍यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  2. ब्लॉग लेखन में आपका स्वागत है. आपके ब्लॉग पर आकर अच्छा लगा. हिंदी लेखन को बढ़ावा देने के लिए तथा प्रत्येक भारतीय लेखको को एक मंच पर लाने के लिए " भारतीय ब्लॉग लेखक मंच" का गठन किया गया है. आपसे अनुरोध है कि इस मंच का followers बन हमारा उत्साहवर्धन करें , हम आपका इंतजार करेंगे.
    हरीश सिंह.... संस्थापक/संयोजक "भारतीय ब्लॉग लेखक मंच"
    हमारा लिंक----- www.upkhabar.in/

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुभागमन...!
    कामना है कि आप ब्लागलेखन के इस क्षेत्र में अधिकतम उंचाईयां हासिल कर सकें । अपने इस प्रयास में सफलता के लिये आप हिन्दी के दूसरे ब्लाग्स भी देखें और अच्छा लगने पर उन्हें फालो भी करें । आप जितने अधिक ब्लाग्स को फालो करेंगे आपके ब्लाग्स पर भी फालोअर्स की संख्या उसी अनुपात में बढ सकेगी । प्राथमिक तौर पर मैं आपको 'नजरिया' ब्लाग की लिंक नीचे दे रहा हूँ, किसी भी नये हिन्दीभाषी ब्लागर्स के लिये इस ब्लाग पर आपको जितनी अधिक व प्रमाणिक जानकारी इसके अब तक के लेखों में एक ही स्थान पर मिल सकती है उतनी अन्यत्र शायद कहीं नहीं । आप नीचे की लिंक पर मौजूद इस ब्लाग के दि. 18-2-2011 को प्रकाशित आलेख "नये ब्लाग लेखकों के लिये उपयोगी सुझाव" का (माउस क्लिक द्वारा) चटका लगाकर अवलोकन अवश्य करें, इसपर अपनी टिप्पणीरुपी राय भी दें और आगे भी स्वयं के ब्लाग के लिये उपयोगी अन्य जानकारियों के लिये इसे फालो भी करें । आपको निश्चय ही अच्छे परिणाम मिलेंगे । पुनः शुभकामनाओं सहित...

    नये ब्लाग लेखकों के लिये उपयोगी सुझाव.

    उन्नति के मार्ग में बाधक महारोग - क्या कहेंगे लोग ?

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी पोस्ट, शुभकामना, मैं सभी धर्मो को सम्मान देता हूँ, जिस तरह मुसलमान अपने धर्म के प्रति समर्पित है, उसी तरह हिन्दू भी समर्पित है. यदि समाज में प्रेम,आपसी सौहार्द और समरसता लानी है तो सभी के भावनाओ का सम्मान करना होगा.
    यहाँ भी आये. और अपने विचार अवश्य व्यक्त करें ताकि धार्मिक विवादों पर अंकुश लगाया जा सके., हो सके तो फालोवर बनकर हमारा हौसला भी बढ़ाएं.
    मुस्लिम ब्लोगर यह बताएं क्या यह पोस्ट हिन्दुओ के भावनाओ पर कुठाराघात नहीं करती.

    उत्तर देंहटाएं